बीजापुर @ केंद्र की मोदी सरकार द्वारा किरंदुल के ग्राम हिरोली स्थित पहाड़ियाँ जो कि डिपॉज़िट नम्बर तेरह के नाम से जानी जाती है को लौह अयस्क उत्खनन हेतु निजी क्षेत्र की आडानी कम्पनी को आवंटित किए जाने के बाद बस्तर के बीजापुर, दंतेवाड़ा और सुकमा ज़िले के हज़ारों ग्रामीण धरने पर बैठकर सरकार के इस निर्णय को वापस लिए जाने की माँग कर रहे है। डिपॉज़िट नम्बर तेरह जहाँ स्थित पर है वह पिटोड़ मेटा के नाम से भी जानी जाती है।

डिपॉज़िट नम्बर तेरह के निजीकरण का विरोध कर रहे छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस के श्री अमित जोगी पर कटाक्ष करते हुए बीजापुर के विधायक एवं बस्तर क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष श्री विक्रम शाह मंडावी ने कहा की अमित जोगी केवल प्रदेश के मंत्रीयो पर झूठा आरोप लगा रहे है अमित जोगी किरंदुल के हिरोली पहाड़ियों पर जिन सरई वनों के होने की बात कर रहे है उस प्रजाति के वन इन पहाड़ियों में है ही नही अमित जोगी केवल झूठ के आधार पर लोगों को गुमराह करने में लगे है,

जबकि उनको भाजपा और मोदी सरकार का विरोध करना चाहिए। आडानी कम्पनी को लौह अयस्क उत्खनन करने के लिए केंद्र की मोदी सरकार ने किरंदुल स्थित डिपॉज़िट नंबर तेरह का निजीकरण किया है। अमित जोगी का भाजपा और मोदी सरकार का विरोध न करना कही न कही भाजपा और मोदी सरकार को लाभ पहुँचा स्पष्ट रूप से प्रतीत हो रहा है, ऐसा ये भाजपा और मोदी सरकार की बी टीम की तरह काम कर रहे है। बीजापुर, दंतेवाड़ा व सुकमा की जनता अमित जोगी और उनकी पार्टी के क़तनी और करनी को समझ गई है अब यहाँ की जनता जोगी एंड कम्पनी के झाँसे में आने वाली नही है। जितने भी एम॰ओ॰यू॰ हुए है ये सभी भाजपा शासन काल में हुए है उस दौरान डॉक्टर रमन सिंह मुख्यमंत्री थे अडानी और मोदी जी की दोस्ती जगज़ाहिर है इनके विरोध में अमित जोगी एक शब्द भी नही बोलते है। कांग्रेस पार्टी ने हमेशा से निजीकरण का विरोध किया है और करते रहेगी।