दंतेवाड़ा- कुआकोंडा थानाक्षेत्र का सबसे अधिक नक्सली प्रभावित इलाका बड़े-गुडरा टेलम,टेटम माना जाता है। इसी इलाके में मोखपाल पंचायत का गोलागुड़ापारा पड़ता है। जहाँ आरईएस द्वारा 1 सड़क पुलिया बनाई जा रही थी। जिस निर्माण में हाल मे ही रिटर्निग वाल के काम को रोकने के लिए नक्सलियों ने ठेकेदार के कैम्प से 50 बोरे राशि गोल्ड सीमेंट फाड़कर फेंक दिया साथ ही टेंट को ध्वस्त कर दिया।

बताया जा रहा है कि मंगलवार की रात तीर-धनुष और हथियार के साथ 1 दर्जन से ऊपर मावोवादी देर रात यहाँ धमके थे। जिन्होंने सीमेंट फ़ेंक,टेंट फाड़, सरपंच के घर का ठिकाना पूछ रहे थे।

निर्माण काम किसी तेलंगाना के नरशैया पेटी ठेकेदार का बताया जा रहा है। जो कि आसानी से अंदुरुनी इलाको में काम करते नजर आ रहे है। गौर करने वाली बात है क्षेत्रीय ठेकेदार अंदुरुनी सड़क पर दहशत के चलते काम को पेटी पदद्दति में तेलगांना दीगर स्टेट के लोगो देता है। और वह काम आसानी से चल जाता है। जबकि जानकरी के लिए बता दे कि जिस सड़क पर नक्सलियों ने काम रोका है। 50% से अधिक सड़क बिना सुरक्षा के पहले ही बना ली गयी है। इस घटना की कोई रिपोर्ट कुआकोंडा थाने में न तो आरईएस विभाग, न ठेकेदार न तो पेटी ठेकेदार ने कराई। मतलब क्या समझा जाये डर या सेटिंग आखिर क्या माजरा पुलिस जांच में तथ्यों को खंगालने के प्रयास में जुट गई है।