दन्तेवाड़ा@ दन्तेवाड़ा विधानसभा चुनाव में वोटिंग 23 सितंबर को है। महज़ 10 दिन से भी कम वक्त प्रचार प्रसार के लिये राजनीतिक दलों के पास बचा है। सत्तासीन कांग्रेस दन्तेवाड़ा जीतकर बस्तर से भाजपा के सफाये का एजेंडा लेकर अपने स्टार प्रचारक पीसीसी चीफ मोहन मरकाम से लेकर मंत्री,विधायको की ताक़त उपचुनाव के दंगल में झोंक रही है। तो वही भाजपा इकलौती दन्तेवाड़ा की सीट किसी कीमत पर खोने नही देना चाहती नजर आ रही है। जिसके लिये पूर्व मंत्री और क्षेत्रीय नेताओ की ताकत लगा रही है। चुनाव की जीत-हार के इसी पशोपेश में जनता के बीच चलने वाले प्रचार के कई रंग भी नज़र आ रहे है।

◆ मेटापाल गांव प्रचार के दौरान बस्तर कल्चर पर सत्तासीन पीसीसी चीफ माँदर बजाते नज़र आये तो कांग्रेस प्रत्याशी देवती कर्मा गुजरी पकड़े थिरकती नजर आई। प्रचार में जमकर जनसमर्थंन लेने के लिये कांग्रेस का दिग्गजी काफिला कुआकोंडा गीदम कटेकल्याण इलाके में घमासान दौरे कर रहा है। तो वही लोकसभा चुनाव के प्रचार में वक्त नक्सली ब्लास्ट में दिवगंत विधायक भीमा मंडावी की बेवा ओजस्वी प्रचार के लिए सहानभूति और मोदी सरकार की नीतियों बीते 15साल के भाजपा के कार्यो और पति के अधूरे सपने को पूरा कर मतदाताओ से वोट मांगने के लिये पैर छूकर जीत का आशीर्वाद मांगते नजऱ आ रही है। 2013 चुनाव में दन्तेवाड़ा विधानसभा ने झीरमघाटी कांग्रेस काफिले में हमले के बाद शहादत के वोटों पर कांग्रेस की झोली में दन्तेवाड़ा सीट दी थी। मगर इस बार उल्ट परिस्थिति बीजेपी ने ओजस्वी मंडावी को टिकट देकर कांग्रेस के सामने खड़ा कर दिया है। एक तरफ़ सत्ता की चकाचौंध, ढोल नगाड़े, मंत्री विधायक और तामझाम के साथ प्रचार प्रसार किया जा रहा है तो वहीं दूसरी तरफ़ सूनी माँग लिए नक्सल हमले में शहीद पति के अधूरे कामों और सपनों को पूरा करने के उद्देश्य और क्षेत्र के विकास के लिए मतदाताओं के पैर छूकर उनका आशिर्वाद लिया जा रहा है. जनता टकटकी लगाये वक्त का कर रही इंतज़ार।

◆ प्रचार के इन्ही कम वक्त में इन्हीं शहादत के बीच जोगी जनता कांग्रेस के प्रत्याशी सुजीत कर्मा जो शिक्षा में दोनों प्रत्याशियों से योग्य हैं बीच में खड़ा है। अल्प संसाधनों से सुजीत कर्मा क्षेत्रीय इलाको में प्रचार में घूम रहे है। आपको बता दे कि सुजीत कर्मा इंजीनियरिग की पढ़ाई करने के बाद युवा बेरोजगार बनकर विधायकी लड़ रहे है साथ ही महेंद्र कर्मा के परिवार के नजदीकी रिश्तों में आते है। इसके वजह से भी परिवारिक वोटों के बटवारे का डर कांग्रेस को सता रहा है।

■ कांग्रेस पार्टी पर लगातार आरोपो की बौछार विपक्षी पार्टीया करने में जुटी है। सबसे पहले शहादत की उम्र पर सियासती ब्यान आ गया तो वही दूसरे दिन कांग्रेस प्रत्याशी देवती कर्मा की पुत्री तूलिका कर्मा का कथित धमकी भरा आडियो वायरल हो गया। जिसके बाद जोगी जनता कांग्रेस के उम्मीदवार सुजीत कर्मा ने 03 आडियो टेप जारी कर कांग्रेस पर नामांकन वापसी के वक्त दबाब बनाने का खुलासा कर दिया। इतना ही नही उपचुनाव में राजीतिक पार्टीयो के मतदाताओं को लोक लुभावन तरीकों से भी दन्तेवाड़ा की जनता रूबरू होते जा रही है। किरन्दुल शहर के वार्ड 6,7 की कांग्रेस एल्डरमैन शमशीद बानो पर मतदाताओ को साड़ी बाटने का आरोप लगा। तो वही कुआकोंडा थानाक्षेत्र में साड़ी से भरी एक वैन पकड़ा गयी। भाजपा सहित विपक्षी दलों ने इस पर भी साड़ी बाटने का आरोप कांग्रेस पर जड़ दिया।