दन्तेवाड़ा@ भाजपा और कॉग्रेस के बीच उपचुनाव में बयानों की बौछार थमने का नाम नहीं ले रही. मंगलवार को पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर उपचुनाव में कांग्रेस की नैतिक हार बताते हुये दन्तेवाड़ा प्रशासन को भी मुकाबले में गिनते हुए बड़े आरोप जड़े है।

देखिये क्या कहा अजय चंद्राकर ने:-

पूर्व सीएम को सभा की अनुमति नहीं मिलने से दंतेवाड़ा की राजनीति में भूचाल सा उठ गया है. चंद्राकर के साथ भाजपा का एक दल सभा की अनुमति लेने कलेक्ट्रेट पहुँचा था, जहाँ उन्होंने मीडिया से चर्चा में दन्तेवाड़ा प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि जिला प्रशासन सरकार के इशारे पर काम कर रहा है. इस उपचुनाव में कांग्रेस पार्टी ने सत्ता का जिस तरह से दुरुपयोग किया है, यह दन्तेवाड़ा की जनता ने अब तक चुनावो में कभी देखने को नहीं मिला होगा. चंद्राकर ने आरोप जड़ते हुये यहाँ तक कह दिया कि इस उपचुनाव में भाजपा का सीधा मुकाबला अब कॉग्रेस से नहीं बल्कि ज़िला प्रशासन से है। लगातार शिकायतों के बावजूद सत्ताधारी दल के ख़िलाफ़ प्रशासन कोई क़दम नहीं उठा रहा, प्रशासन ने कॉग्रेस को खुली छूट दे रखी है. साड़ी बाँटना, आश्रम में प्रत्याशी के साथ पीसीसी चीफ़ का जन्म दिन मानना और चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए CM द्वारा घोषणा करना इन सभी मामलों की शिकायत हमने प्रशासन से की है परंतु कार्यवाही तो छोड़िए सत्ता को और प्रश्रय दिया जा रहा है. पीसीसी चीफ़ मोहन मरकाम ने कॉग्रेस प्रत्याशी देवती कर्मा के साथ एक सरकारी संस्था में अपना जन्मदिवस मनाया ये आचार संहिता का खुला उल्लंघन है लेकिन शिकायत के बावजूद प्रशासन ने अपनी आँखें बंद रखी हैं. एक दिन पहले जहाँ सीएम की सभा हुई थी वहाँ पूर्व सीएम को सभा की अनुमति नहीं देना समझ से परे है, जो सरकार और प्रशासन एक व्यक्ति को सुरक्षा नहीं से सकता वो चंद्राकर ने आरोप लगाते हुए कहा कि दंतेवाड़ा की जनता को क्या सुरक्षा देंगे. डॉ रमन सिंह की लोकप्रियता से भूपेश बघेल घबरा गए हैं, उन्हें अहसाह हो गया है कि अब उनकी हार निश्चित है, इसलिए सत्ता का दुरुपयोग करते सारे अनैतिक तरीक़े अपनाए जा रहे हैं.