दंतेवाड़ा@ नक्सल प्रभावित क्षेत्रो में नक्सलियों से लोहा लेने वाले जवान इनदिनों एक अदृश्य महामारी कोरोना से भी लड़ रहे है। जबसे यह महामारी भारत मे फैली है. पुलिस फ्रंट लाइन में जोखिम उठाकर भी सड़को में काम कर रही है। दंतेवाड़ा जैसे जिले में जहाँ नक्सलवाद की जड़े जमीन में धसी हुई हैं। उन इलाकों के जवान अक्सर नक्सलियों को बन्दूक से हैंड्सअप करवाते हैं। मगर कोरोना महामारी ने जवानों के हाथों में तमंचे की जगह इंफ्रारेड थर्मोमीटर कोरोना को हराने के लिए पकड़ा दिया है।

कुआकोंडा थाने के टीआई सलीम खाखा को थाने में भी एक मशीन मिली है। जिसे वे थाने के सामने चेकपोस्ट पर आने-जाने वाले लोगो के टेम्प्रेचर चेक कर रहे है। ताकि कोरोना संक्रमण का संदिग्ध यदि दिखे तो उसे इलाज करवाने आगे भिजवाया जाए। जिले का पहला थाना है.जिसे इंफ्रारेड थर्मोमीटर दिया गया है। दरअसल

जबसे सुकमा के सटे हुए मलकानगिरी में कोरोना के 02 पोजेटीव मामले सामने आये है। सतर्कता और बढ़ा दी गयी है। क्योंकि कुआकोंडा इलाके के बहुत से लोगो का आना-जाना मलकानगिरी से रहता है। इस थर्मोमीटर से थाने के स्टाफ और आम राहगीरों की लगातार चेकिंग की जा रही हैं।

थर्मोमीटर से चेकिंग