◆भूपेश ने नही अंकज इंटरप्राइजेस ने दी दाम्पत्य जीवन की जोड़ो को शुभकामनाएँ

दन्तेवाड़ा- मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजनांतर्गत दन्तेवाड़ा जिले में महिला एवं बाल विकास के 300 जोड़े शादी में नव दाम्पत्य जीवन वैवाहिक जीवन में बंधे, इस योजना के तहत जिले के 8 परियोजना से पहुँचे जोड़ो को आशीर्वाद देने महिला बाल विकास मंत्री अनिला भेड़िया, मंत्री कवासी लखमा, बस्तर सांसद दीपक बैज शिरकत करने मेनका डोबरा मैदान पहुँचे थे।

सुनिये मंत्री जी ने क्या कहा:-

◆लग्न मंडप में पहुँचे हितग्राहियों को महिला बाल विकास विभाग ने घटिया स्तर का सामान जोड़ो को दे दिया। नवजोड़ो को सामान में हाथ घड़ी, टीन डिब्बा और नगद दी जाने वाली राशि भी नही मिली. कटेकल्यान के नवविवाहित जोड़े ने बताया कि सामान बहुत ही निम्न स्तर का दिया गया है। अभी तक न ही घड़ी और न ही राशि। जबकि महिला एवं बाल विकास मंत्री ने कार्यक्रम में कहा कि योजना में हितग्राहियों को 25 हजार रुपये में सामान देने की योजना है। मगर आईसीडीसी सीसीपीडीओ बृजेन्द्र ठाकुर एक हितग्राही पर 15 हजार रुपये ही बता रहे थे. आखिर जब योजना में 25 हजार रुपये मंत्री महोदया जी कह रही है तो विभाग 15 हजार क्यो कह रहे है। बाद में पहुँचने पर 14 हजार समान व्यय,1हजार नगद खाते में,5हजार वैवाहिक और 5 हजार कार्यक्रम खर्च बता दिया ।

◆ वैवाहिक समारोह में जिस मंगलभवन में वैवाहिक तैयारियां नवजोड़ो की हो रही थी. देखते ही देखते पूरा भवन जूते चप्पल के खड्डों से कचरा घर सरीके नजर आ रहा था। जो कि विभागीय उदासीनता को दर्शाने के लिए काफी कुछ था।

◆ विभागीय कार्यक्रम में निजी दुकानदार अंकज इंटरप्राइजेस अपनी फ़र्म का प्रचार करते नजर आए, स्टीकेर के ज़रिए फ़र्म ने नव विवाहित जोड़ों को दाम्पत्य जीवन शुभकामनाएँ दी, जिस पर छतीसगढ़ के सीएम और महिला बाल विकास मंत्री अनिला भेड़िया के साथ क्षेत्रीय दन्तेवाड़ा के नेताओ की तस्वीर के साथ दुकानदार का बधाई संदेश आयोजन को लेकर था। यहाँ विभाग के कार्यों पर सवाल उठता है कि सरकारी आयोजन में प्राइवेट दुकानदार का स्टीगर आखिर कैसे लग गया?

◆ वैवाहिक स्थल पर मीडिया ने जब कार्यक्रम स्थल में घुमा तो कई जोड़े शादीशुदा भी दिख गये ऐसे ही एक जोड़ा कुआकोंडा परियोजना से एक वैवाहिक जोड़ा धनीकरका से बैठा हुआ था. हितग्राही का नाम आयतू कोतवालपारा धनीकरका से थे जिनका विवाह माड़के मुड़ामपारा पेंटा से 4 महीने पहले हुआ था. पर वे भी सरकारी सामूहिक विवाह में बैठे थे।

◆ जब प्रदेश मंत्री ने मीडिया के शादी शुदा जोड़े पहुँचने की बात पूछी तो महिला बाल विकास मंत्री अनिला भेड़िया ने कहा कि एक दो महीना पहले शादी हुआ होगा रजिस्ट्रेशन हमारे विभाग में करा लिये होंगे, लेकिन हमारे पास जोड़ा तैयार नही थे तो ऐसे लोग आकर बैठ जाते है। अगर क्या जोड़े नही तैयार थे तो शादीशुदा जोड़ो को बैठाकर विभाग वाहवाही लूटने में लगा है।