दंतेवाड़ा@ भारतीय जनता पार्टी देश की सबसे बड़ी पार्टी जरूर है, जिसका फैलाव भारत भर में है, जिसका एक शख़्सत माध्यम नेटवर्किंग साइड से लोगो जोड़ने में भाजपा व्हाट्सएप, फेसबुक,ट्यूटर जैसे न जाने कितने कैम्पन वर्षभर चलाती रहती है। लेकिन दंतेवाड़ा की भाजपा आज भी इन सब मामलों में फिस्सडी ही है। ऐसा इसलिए हम कह रहे हैं, दरअसल कोरोना काल मे आयोजित सभी प्रेस कांफ्रेंस वर्चुअल ही मीडिया के साथ सभी दल कर रहे हैं। ऐसे ही एक प्रेस कांफ्रेंस बुधवार समय 2:30 बजे लेने के लिए जिला दंतेवाड़ा भाजपा ने शोसल मीडिया में चलाया, जिस वर्चुअल मीटिंग पर जगदलपुर पूर्व विधायक संतोष बाफना, दंतेवाड़ा जिला अध्यक्ष चैतराम अटामी मीडिया के समझ अपनी बात रखने वाले थे।

जिस आमंत्रण मैसेज में समय का विशेष ध्यान रखने की बात रखी गयी थी. उस वर्चुअल मीटिंग में इतनी अव्यवस्था नजर आई कि आधे घण्टे तक लोग जुड़ते रहे हटते रहे इतना ही नही मीटिंग समस्त जिला ब्यूरो तक नही जुड़ पाये। वर्चुअल मीटिंग का क्या उद्देश्य मीटिंग किसने आयोजन की किस मुद्दे पर कहना यह तक किसी को नही पता। वर्चुअल मीटिंग जिस गो टू मीटिंग एप्प्स से ली जा रही थी, उस पर लगातार कई तकनीकी खामियां आ रही थी, कुल जमा खर्च मीटिंग आधी अधूरी लोगो के जुड़ते-घटते हो गयी ।

वर्चुअल मीटिंग के माध्यम से जगदलपुर पूर्व विधायक संतोष बाफना ने कॉंग्रेस पार्टी के पीएल पुनिया के द्वारा पीएम मोदी की तुलना गोडसे वाले ब्यान का विरोध दर्ज कराते हुए कहा कि पीएम मोदी तो इस कोरोनाकाल की स्थिति को किस तरह से नियंत्रित किया जाये इस पर दिन-रात इस पर लगे है। और कांग्रेस क्या कर रही है इस काल मे भी शराब बेचने का काम कर रही है। इनके नेता सिर्फ ब्यानों से आम जनता को उलझाने का काम कर रहे हैं। दरअसल वर्चुअल मीटिंग का यह उद्देश्य लेकर रखी गयी थी।

मगर मीटिंग में आयोजको की अव्यवस्था के चलते जिले के कई पत्रकार नही जुड़ सके। इन सबको देखते हुए लगता है दंतेवाड़ा के भाजपाईयो को अभी वर्चुअल मीटिंग आयोजन से पहले किस तरह मीटिंग ली जाएगी इसकी रूपरेखा तैयार कर लेनी चाहिए।