दन्तेवाड़ा/बारसूर@बारसूर नगरी में नागवंशीय राजाओं के बनवाये कई मंदिर है। गणेश मंदिर,मामा-भाचा मन्दिर, चन्द्रेतिया मंदिर, बत्तीसा मंदिर जैसे दर्जनों मंदिर बने है।

पर इन मंदिरों में अव्यवस्था का आलम इस तरह पसरा है कि मंदिरों में कही भी दान पेटी तक नही रखी हुई है। मंदिर में दर्शनों के लिए दूर दराज से आये दर्शनार्थी जो भी श्रीधा भाव से अर्पण करते है। कुछ कर्मचारी उसे अपनी अतरिक्त आय का जरिया बना लेते है।

चैनुदास पुजारी नामक स्थानीय कर्मचारी ने जानकारी दी कि पर्यटक समय समय पर आते रहते है। और मंदिरों में दान भी करते है। पर दान का पैसा सही जगह नही पहुँचता है। प्रभाकर दास नाम के कर्मचारी पर ऐसे आरोप लग रहे है.

देखिये वीडियो पर कर्मचारी ने किस पर आरोप लगाया

पुरातात्विक महत्व की नगरी बारसूर में पुरातत्व विभाग ध्यान नही दे रहा। मूर्ति संग्रहालय में 128 मूर्तिया विशेष महत्व की प्राचीन संग्रहित है। जिसके आसपास के सीसी टीवी कैमरे खराब हो गये है। जिनकी सुध लेने वाला कोई नही है।