दंतेवाड़ा- गरीब की आह से बचिए जनाब देश युद्ध के हालात से निपट रहा है, किसी युद्ध मे भी इतना संकट नही आता जितना कोरोना काल ने निचले तबके के मजदूर वर्ग को दिया है, हालात ये है कि खाने के भी कही-कही लाले पड़ गये है। मगर मदद के हाथ भी देश मे कम नही है, दंतेवाड़ा के गीदम नगर में गरीब परिवारों की मदद के डीआईजी डीएन लाल स्वयं पहुँचे उन्होंने एक महीने का राशन समान बेचकर राशन जुटाने वाले पीड़ित परिवार को कराया।देखिये वीडियो:

जावंगा में स्थित इन्ही परिवारों में से एक परिवार ने तो अपने घर के फ्रीज को ही बेच दिया, सबसे ताज्जुब की बात ये है कि उस फ्रीज को खरीदने वाले भी मिल गये, जिन्होंने मदद करना मुनासिब नहीं समझा बल्किन गरीबी का फायदा ही उठा लिया।

लोकल मीडिया की खबरों से सज्ञान लेकर डीआईजी डीएन लाल अपनी 231 बटालियन के जवानों के साथ मौके पर पहुचकर मदद की तो चेहरे पर परिवार वालो के मुस्कान नजर आने लगी। साथ ही डीआईजी ने अपील की फ्रीज पीड़ित परिवार का खरीदने वाला वापस कर दे।

कितनी बड़ी विडंबना है, लोगो इस संकट काल मे भी फायदा खोजने से नही चूकते, इंसानी मूल्यों की कीमत उस फ्रीज से कहि अधिक है, यह समझने की जरूरत है। केंद्र सरकार की सीआरपीएफ बस्तर में विकास, नक्सल के मोर्चे के साथ अब कोरोना के मोर्चे पर भी युद्ध कर सराहनीय भूमिका निभा रही।