इस लिंक पर ग्राउंड रिपोर्ट देखिये हिरोली के ग्राउंड से

दन्तेवाड़ा- एनएमडीसी१३नम्बर डिपॉजिट पर अडानी को हिरोली ग्रामसभा २०१४ में लीज के पेपर मिले थे, जिसे पंचायत सरपंच संघर्ष समिति, समाजिक कार्यकर्ता सोनी सोरी, मनीष कुंजाम जैसे तमाम १३ नम्बर खदान पर दी हुई लीज कैंसिल करने की मांग को लेकर फर्जीग्राम सभा आयोजित कर लीज के पेपर तैयार होने का आरोप लगा रहा है। हाल में किरन्दुल में १३नम्बर डिपाजिट को लेकर जमकर विरोध प्रदर्शन हुआ था। जिसको लेकर सरकार ने हिरोली में आरोपित कथित फर्जीग्राम सभा की 15 दिन में जांच, और खदान क्षेत्र में अवैध कटाई की जांच के साथ काम पर ब्रेक लगा दिया था।

◆ अतिसंवेदनशील नक्सलप्रभावित क्षेत्र हिरोली में भारी सुरक्षा बलों की तैनाती के बीच जांच दल हिरोली पहुँचा, पंचायत भवन के सामने जांच की चौपाल भी प्रशासन ने लगा दी। मगर जांच में उक्त कथित फर्जीग्राम सभा आयोजित कर पेपर तैयार करवाने वाले पंचायत सचिव नदारत थे। जिसके चलते प्रशासन की तरफ से एसडीएम नूतन कवर और आदिवासी महासचिव मनीष कुंजाम के बीच घण्टो तार्किक वाद-विवाद सचिव के नदारत रहने से चला। इधर पंचायत संघर्ष समिति के सरपंचों का समूह और सामाजिक कार्यकर्ता भी मौजूद रहे, मगर आज उनमें ज्वलंत विरोध इस मुद्दे पर नजर नही आया।

हिरोली तक पहुँचने के लिए फोर्स ने पहले दर्जनों नक्सलियो के काटे गड्ढे मड़कामीरास से हिरोली के बीच जेसीबी मशीन लगाकर भरे। हिरोली ग्राम तक सुरक्षा देखने एसपी अभिषेक पल्लव खुद भी मौजूद रहे। जहाँ ग्रामीणों के लिए एक निशुल्क मेडिकल कैम्प भी लगाया गया था। इधर ग्रामसभा की जांच शुरू होने से पहले ही विवादों से घिरी नजर आ रही है। मनीष कुंजाम ने तर्क दिया कि जब सचिव ही मौजूद नही है तो जांच की प्रक्रिया में सही और गलत कौन बताएगा। प्रशासनिक अधिकारी लगातार जांच शुरू करने के प्रयास में जरूर दिखे। मगर उन्हें दिक्कतों का सामना करना पड़ा। क्योकि मौके से सचिव नदारत था। हालांकि पंचायत के महिला पुरुष सभी मौजूद थे। प्रशासन ने नोटिश भी चस्पा किया था मगर जांच आज अधर में ही रह गयी।

इसी बीच हिरोली दुक्कापारा में सुरक्षा में तैनात डीआरजी का कांस्टेबल भगतू राम नक्सलियो के प्रेशर बम्ब की चपेट में फंस गया। प्रेशर बम्ब की चपेट में आने से घायल जवान का बायां पैर जख्मी हो गया। जवानों ने घायल जवान को एनएमडीसी बचेली इलाज के लिये लाये. जहाँ से उसे एयर लिफ्ट कर रायपुर बेहतर इलाज के लिए रवाना किया गया। जवान की हालत खतरे के बाहर बताई जा रही है।