दंतेवाड़ा- दंतेवाड़ा जिले के केके लाइन में डूमाम रेलवे में उड़ीसा के 6 मजदूर काम मे लगे थे. लॉक डाउन लगने की वजह से मजदूर भी फंस गये, मजदूरों को प्रशासन और ठेकेदार द्वारा राशन-पानी व्यवस्था करवाया जाने लगा, ताकि परिस्थिति नियंत्रण में आने तक मजदूर वही रुके जा पर वे काम रहे हैं।

लेकिन ठेकेदार ने राशन देने से मना कर मजबूर मजदूर इस वजह से पैदल ही घर अपने काम का पैसा लिए निकल रहे। ये सभी मजदूर कावड़गांव तक पैदल चलकर पहुँच गये थे, जिन्हें समाजिक कार्यकर्ता संजय पंत ने सड़क पर रोककर जानकारी ली तो मजदूर मोहन विश्वास, गणेश,लखन और चिन्ना ने बताया कि मजबूरी की वजह से जाना पड़ रहा है। जब खाने को नही रहेगा तो रुकेंगे कैसे, ठेकेदार ने पहले सप्ताह तो राशन दिया पर अब नही दे रहा है। पैदल चलकर दोरनापाल तक पहुँचकर जैसे तैसे घर निकल जायेगे। ऐसा मजदूरों ने कहा।

जानकारी के लिए बता दे मजदूर सबसे मजबूर है क्योंकि रोजी रोटी के लिए दीगर प्रदेशो में कमाने खाने की नीयत से निकले मजदूर कोरोना काल में बुरी तरह फंस गये है। जिन्हें इस दौर में सबसे अधिक तकलीफ झेलनी पड़ रही हैं।