दन्तेवाड़ा- प्रशासन द्वारा की जा रही फर्जीग्राम सभा की जांच से आदिवासी नाराज है, जिसके चलते एक बार फिर आदिवासी आंदोलन करने का इच्छा में हैं.
विदित हो कि बैलाडीला की खदान डिपॉजिट नम्बर 13 को लेकर एक बार फिर आदिवासी लामबंद हो रहे हैं. पंचायत संघर्ष समिति के लोग एक बार फिर दंतेवाड़ा की नई धर्मशाला में जुटे. लोगों ने जांच प्रक्रिया पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि हम जांच से संतुष्ट नहीं हैं आदिवासी समिति के सदस्यों व पदाधिकारियो ने बोला कि प्रशासन ठीक से जांच नहीं कर रहा है. समिति सदस्यों का कहना है कि 6 दिन बाद भी इस बात का पता नहीं चला कि जांच किस दिशा में जा रही है.

इस लिंक पर पूरी खबर देखिये।

लोगों ने लगाए ये आरोप
सचिव पंचायत से गायब है, प्राशासन ही तो नहीं छुपा रहा है.जांच समिति के 8 सदस्यों से नहीं राय नहीं ली जा रही है. प्रशासन ने जानकारी समिति से मांगी थी, वो आज एसडीएम को सौंप देंगे.सीएम से मिलने कांग्रेसी गए थे, पंचायत संघर्ष समिति के सदस्य नहीं मिले.106 लोगों ने दस्तखत किए थे, जिसमें अधिकांश ने अंगूठा लगाया. आंदोलन को गुमराह करने के लिए सचिव को गायब किया गया है. पेड़ों की कटाई में वन विभाग भी दोषी है. इतने बड़े पैमाने पर पेड़ों को काट दिया गया फिर मौन है सब.
फिर से ग्राम सभा कराने की मांग कर रहे हैं. ग्राम सभा में सभी ग्रामीण विरोध करेंगे. जांच की जरूरत नहीं पड़ेगी और दस्तावेजों को खोजने की भी जरूरत नहीं है.