बीजापुर @ सत्ता परिवर्तन के साथ गड़बड़ी और फर्जी लोन लेकर रुपयों के हेरफेर का खेल भोपालपटनम लेम्प्स में अब भी खेला जा रहा है। मीडिया में लेम्प्स की खबरें आने के बाद भी अब तक कोई कार्यवाही प्रबंधक पर होती नही दिख रही है। अब इस मामले में पूर्व वनमंत्री महेश गागड़ा ने कांग्रेस पर आरोप लगाया है। गागड़ा ने सीधे लेम्प्स में गड़बड़ी और फर्जी पट्टो के नाम लोन लेकर कर्जमाफी के पीछे कांग्रेस के नेताओं का हाथ बताया।

पूर्वमंत्री गागड़ा का कांग्रेस पर आरोप

इन गांव के लोगों ने की शिकायत,

ग्राम मेटलाचेरु और रामपेटा के किसानों द्वारा आरोप लगाया गया कि स्वयं लेम्पस प्रबंधक हमारे गांव में आकर 1400 रुपए में धान खरीदी किया गया जबकि शासन का समर्थन मूल्य 2100 रुपये था। ग्राम नरोनापल्ली के किसानों द्वारा यह भी आरोप लगाया गया कि मुदस्सर खान द्वारा हमारे नाम से ऋण प्रकरण बनाकर बैंक प्रबंधक की मिलीभगत से उक्त ऋण राशि का आहरण किया गया जिसकी कोई भी जानकारी हमें नहीं दी गई। लेम्पस प्रबंधक वर्मा को भी इसकी जानकारी दी गई थी कि हमारे द्वारा किसी प्रकार का ऋण नहीं लिया गया है। ग्राम मेटलाचेरु के किसान मिच्चा चिन्ना पिता पेंटा के नाम पर भी ऋण लिया गया। मजेदार बात यह है कि ग्रामीणों के कथनानुसार उक्त किसान की मृत्यु 25 से 30 वर्ष पूर्व हुई है। मृत व्यक्ति के नाम पर ऋण लिया गया यह कैसे संभव है? भोपालपटनम लेम्प्स के एक दर्जन से ज्यादा गाँवो के किसानों ने फर्जी लोन की लिखित में शिकायतें की हैं बावजूद इसके कोई कार्यवाही इस मामले में नही हुई है। वहीं इस मामले लेम्प्स प्रबंधक की कांग्रेसियों के करीबी होने के कयास लगाए जा रहे हैं।

जिला प्रवक्ता ज्योति कुमार से पूछे जाने पर बताया कि ये मामला मीडिया के माध्यम से पता चला है। और ये मामला भाजपा के शासनकाल का है। जहां तक कर्ज माफी की बात है तो जिले के हर किसान का कर्ज माफ हुआ है और जिले के किसान खुश है। कर्ज माफी को लेकर भाजपा केवल अफवाह फैला रही है। सभी किसानों का कर्ज माफ हुआ है।