बीजापुर @ सालों से बन रहे तिमेड पुल का काम इस बार भी पूरा होता नही दिख रहा है। ठेकेदार की पुल निर्माण कार्य मे कछुआ चाल की वजह से इस साल भी पुल आमजन के लिए नही खोला जा सकेगा। इस लेटलतीफी की वजह से महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ के सीमावर्ती इलाके के लोगों में काफी रोष है।

देखें वीडियो,,,

दरअसल छत्तीसगढ़ के सीमावर्ती इलाके भोपालपटनम से लगे तिमेड में बहुउद्देशीय पुल का निर्माण कार्य बीते 5 साल पहले शुरू हुआ था 660 मीटर लंबी इस पुल में 22 पिलर हैं जिनका कार्य पूर्ण हो चुका है लेकिन स्लैब स्तर पर आकर कार्य बीते एक महीने से रुका हुआ है।
क्षेत्रीय विधायक विक्रम मंडावी ने तिमेड पुल निर्माण कार्य का जायजा लेकर वशिष्ठ कंस्ट्रक्शन कंपनी मैनेजमेन्ट से बात कार्य मे तेजी लाने के निर्देश भी दिए थे बावजूद इसके कंपनी अपनी लेटलतीफी और मनमानी से बाज नही आर रही है।
छत्तीसगढ़ से ले जा रहा है खनिज,
तिमेड पुल निर्माण कार्य मे तेजी लाने और सामग्री की पहुंच जल्दी होने के उद्देश्य से नियमो को दरकिनार कर वशिष्ठ कंस्ट्रक्शन कंपिनी को रामपुरम में नियमो को ताक पर रखकर खनन की मौखिख अनुमति दी गई थी जिसमे ग्रामीणों के विरोध के बावजूद तात्कालीन भाजपा सरकार ने जारी रखा था लेकिन आज भी उस खनन के उद्देश्य की पूर्ति कर पाने में कंपिनी अक्षम ही नजर आती है।