दन्तेवाड़ा/गीदम-( आरती सिंह )

अगर आपको कुत्ता काट लेता है, तो जिले के किसी भी सरकारी अस्पताल में एंटी रेबीज इंजेक्शन नहीं मिलेगा। जिले के सभी सरकारी अस्पतालों सीएचसी, पीएचसी और उप स्वास्थ्य केंद्रों में भी एंटी रेबीज इंजेक्शन उपलब्ध नही है। इसके चलते मरीजों को मेडिकल स्टोर्स से मोटी रकम खर्च कर इंजेक्शन खरीदकर लगवाना पड़ेगा। वहीं इस समस्या से स्वास्थ्य विभाग के सभी अधिकारी अवगत हैं।

लेकिन कोई भी अधिकारी गंभीरता से इस तरफ ध्यान नही दे रहा है।
विगत कई दिनों से एंटी रेबीज इंजेक्शन के खत्म होने की समस्या लगातार बनी हुई है।स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों/ कर्मचारियों के अनुसार जिले के किसी भी शासकीय स्वास्थ्य केंद्रों पर इस समय एंटी रेबीज इंजेक्शन उपलब्ध नहीं है। पिछले पखवाड़े भर से इंजेक्शन सप्लाई करने वाली कंपनी के द्वारा एंटी रेबीज इंजेक्शन की सप्लाई नही की जा रही है। विभागीय सूत्रों का कहना है कि इंजेक्शन सप्लाई करने वाली कंपनी ने बीते साल प्रोडक्शन बढ़ाने के लिए नई यूनिट लगाई थी, जिसके बाद से सप्लाई प्रभावित है।
इंजेक्शन नहीं होने पर मरीजों को बाजार से इंजेक्शन खरीदकर लाने को कहा जा रहा है। निजी मेडिकल स्टोर्स में एंटी रेबीज इंजेक्शन की कीमत 400 से 800 रुपये तक है। नगर में एक ऐसा ही वाकया दिनेश चौहान के साथ घटित हुआ वो मॉर्निंग वाक से वापस घर आ रहे थे, तभी रास्ते मे उन्हें एक कुत्ते ने काट लिया। इसके बाद जब वो एंटी रेबीज इंजेक्शन लगवाने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र गीदम पहुचे तो वहाँ एंटी रेबीज इंजेक्शन नही मिला। तो उन्होंने मेडिकल स्टोर्स से इंजेक्शन खरीद कर लगवाया।

*इस संबंध में जब मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ एच एल ठाकुर से बात की गई तो उन्होंने मीटिंग में होने का हवाला देते हुये बाद में फोन करने को कहा। और खण्ड चिकित्सा अधिकारी गीदम डॉ सूर्य गुप्ता ने कॉल रिसीव नही किया।*