देवती की राजनीति आस्था में नहीं चलने दूँगा
आस्था को व्यापारिक केंद्र नहीं बनने दूँगा
देवती को अपने रिश्तेदारों से काम करवाना है तो एजुकेशन सिटी को फरस्पाल शिफ़्ट करवा लें
दन्तेवाड़ा@ अटल बिहारी एजुकेशन हब में आस्था विद्या मंदिर में 27 जुलाई को पूर्व विधायिका देवती कर्मा का दौरा प्रायोजित और राजीनीति से ग्रसित दौरा था। सत्ता के गुमान में अपने चेहतों को रिश्तेदारों को आस्था विद्या मंदिर में लगाकर लूटतंत्र चलाने की नीयत से वह दौरा था। यह आरोप आस्था विद्या मंदिर जावंगा के शाला प्रबंधन समिति के अध्यक्ष बोमडा कवासी शाला प्रबंधन समिती के सदस्यों के साथ प्रेसवार्ता कर खुले तौर पर दन्तेवाड़ा मीडिया के सामने लगाया।

श्री कवासी ने कहा कि आस्था में पूर्व से ही 4अधीक्षक नियुक्त है। वहाँ पूर्व विधायिका देवती कर्मा ने अपनी बहू रमा कर्मा को पहले धीरे से लगवाया। उसके बाद से ही अव्यवस्थाओ और आरोपो का खेल शुरू हो गया। ताकि पूरा चार्ज उन्हें मिल सके। जबकि नियुक्ति की फ़ाइल कहा से चली यह दन्तेवाड़ा कलेक्टर को भी अब तक पता नही है। आस्था की समस्या अगर देवती कर्मा देखने गयी होती तो अलग बात थी। आज आस्था संस्था 1 करोड़ रुपये से ऊपर बाजार के कर्जे में है। 4-4 महीने से शिक्षकों को वेतन नही मिल पाया है। 10-12 बच्चो के रूम में 25 बच्चों रुक है। ये मूल समस्याएं आस्था की है पर उन्हें ये सब क्यो नजर नही आया।

◆ 03 अगस्त को देवती के खिलाफ पालक आंदोलन होगा। क्योंकि छोटी सी बात को तूल पकड़ाकर वे जबरन राजनीति आस्था में चला रही है। श्री कवासी ने तल्ख लहज़े में यह भी कहा कि जीवन मे जिन्होंने 1 इंच जमीन का टुकड़ा आदिवासियों के हक में नही दिया वे किस तरह से बच्चो के हक के बारे में सोचेंगे।मैने जावंगा के लिए पहले भी जमीन दी अभी भी हम अपनी निजी 200 एकड़ भूमि शिक्षा,स्वास्थ्य के लिए सरकार को देने को तैयार है। क्योकि हम राजनीति नही करते अपने क्षेत्र के बच्चों के भविष्य को देखते है।
◆ आस्था विद्या मंदिर जावंगा के प्राचार्य संतोष प्रधान पर जबरन के दबाव देकर काम करवाने का लगातार दबाव बनाया जा रहा था। जिससे बात नही बनी तो झूठे आरोप जड़ मीडिया में फ्लैश करवा दिया गया। दन्तेवाड़ा में सभी जगह अपने परिवार के लोगो को बैठाकर किस तरह की राजनीति खेली जा रही है। पूर्व में भी डीईओ पद पर राजेश कर्मा को बैठाने के लिये नियमो को रौंदा गया। आस्था में सप्लाई टेंडर को भी हथियाने की कोशिश थी। पर खुली निविदा लग गयी। उन्होंने यह भी कहा कि अगर इस तरह से कुंठित राजनीति का पुरजोर विरोध होगा।
देवती कर्मा –
निरीक्षण में बच्चों ने अव्यवस्था बताया था। वीडियो में अव्यवस्था है। कल इसको लेकर प्रेसकांफ्रेस भी है। प्रिंसिपल को बचाने के लिए बोमडा कवासी मिथ्या आरोप लगा रहे है।