बीजापुर @:- उद्योग एवं आबकारी मंत्री कवासी लखमा पर उनके नक्सलियों से संबंध के सांसद दिनेश कश्यप के आरोप पर बड़ा पलटवार करते हुए क्षेत्रीय विधायक व बस्तर विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष विक्रम मंडावी ने तोहमत लगाई कि सांसद दिनेश कश्यप मनोरोगी है। चुनाव जीतने के बाद उनका इलाज हम कराएँगे।

विधायक निवास में आयोजित पत्रवार्ता में विधायक विक्रम मंडावी ने कहा कि दिनेश कश्यप टिकट कटने से बौखला गए है। इस कारण वे अनगर्ल आरोप मंत्री लखमा पर लगा रहे है। श्री मंडावी ने कहा कि झीरम काण्ड के पीछे भाजपा का हाथ होने का पूरा संदेह है।उन्होंने आरोप लगाया कि रमन सरकार के कार्यकाल में झीरम काण्ड हुआ। भाजपा सरकार ने कांग्रेसी लीडरों को माकूल सुरक्षा नहीं दी थी। कवासी लखमा के इस काण्ड में बचने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इसमे कई नेता बच गए। इस काण्ड में भाजपा के हाथ होने का आरोप लगाते श्री मंडावी ने कहा कि कोण्टा विस क्षेत्र से पांच बार लगातार चुनाव जीतने को आधार बनाकर कवासी लखमा का संबंध नक्सलियों से भाजपाई जोड़ रहे हैं। उन्होंने सवाल किया कि तीन बार लगातार जब छग में भाजपा की जीत हुई, तो क्या ये नक्सलियों से संबंध होने के कारण ऐसा हुआ ? विधायक विक्रम ने ये भी सवाल किया कि केन्द्र और राज्य में भाजपा की सरकार थी, तब कवासी लखमा के माओवादियों से संबंध होने की जांच या एफआईआर आखिर क्यों नहीं की गई।

मंडावी का कश्यप खेमे पर हमला,,

एमएलए विक्रम मंडावी ने कहा कि दिनेश कश्यप को टिकट नहीं मिलने और केदार कश्यप के विस चुनाव में हार जाने के कारण वे उलजुलूल बयानबाजी कर पार्टी में अपनी पकड़ बनाए रखना चाहते हैं। क्योंकि कश्यप परिवार का वजूद उनकी ही पार्टी में समाप्ति की ओर है। पार्टी में अपना वजूद बनाए रखने और अपना सियासी सफर जारी रखने वे ऐसी सक्रियता दिखा रहे हैं। विस चुनाव की तरह ही लोक सभा चुनाव में भाजपा को करारी हार का भय सता रहा है। श्री मंडावी ने कहा कि बस्तर संसदीय क्षेत्र में दस सालों में दिनेश कश्यप ने ऐसा कोई बड़ा काम नहीं किया जिसमें उनका विशेष प्रयास रहा हो।

तिमेड़ पुल और कोण्टा रोड में कांग्रेस की भूमिका

विधायक विक्रम मण्डावी एवं ने कहा कि कोण्टा रोड बनने के पीछे भाजपा अपनी पीठ थपथपा रही है जबकि तिमेड़ पुल और कोण्टा रोड की मंजूरी कांग्रेस नीत यूपीए सरकार के कार्यकाल में दी गई थी। जहां तक कोण्टा रोड के बनने का सवाल है, इसे जल्द बनवाने मंत्री कवासी लखमा ने कई बार आंदोलन किया और आवाज उठाई। इस सडक़ की मंजूरी तब विधायक कवासी लखमा ने तत्कालीन भूतल परिवहन मंत्री कमलनाथ से मिलकर दिलवाई थी। तिमेड़ पुल मई तक बन जाएगा और इसके लिए प्रशासनिक स्तर पर कई दिनों से तालमेल बनाकर बात की जा रही है।पत्रवार्ता के दौरान प्रदेश सचिव व बीजापुर प्रभारी सत्तार अली, प्रदेश सचिव अजय सिंह, जिला अध्यक्ष लालू राठौर, जिला पंचायत उपाध्यक्ष शंकर कुडियम, जिला पंचायत सदस्य बसंत ताटी, मिच्चा मुतैया, ज्योति कुमार, जगबन्धु मांझी, महेश बेलसरिया, लक्ष्मण कड़ती मौजूद रहे।