दन्तेवाड़ा-
नकुलनार के युवाओ सीआरपीएफ 230 बटालियन के जवान और मीडिया के परस्पर सहयोग से रेंगानार पोस्ट में भव्य रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया।
रक्तदान शिविर में नकुलनार के युवाओं ने जवानों और अधिकारियों के साथ मिलकर जिला अस्पताल दन्तेवाड़ा से डॉ0दीपेंद्र भदौरिया के सहयोग से ब्लड बैंक की पहुँची हुई टीम को आवश्यक रक्त समूहों के अलग अलग ग्रुपो के ४० यूनिट ब्लड दिया। रक्तदान शिविर में सीआरपीएफ डीआईजी डीएन लाल 230 बटालियन के कमाण्डेन्ट डब्ल्यू0आर जोसुहा के साथ पहुँचे हुए थे। जहाँ डीआईजी ने कार्यक्रम की जमकर तारीफ की साथ ही स्वयं रक्तदान भी किया।
डीआईजी ने कार्यक्रम को लेकर कहा कि सीआरपीएफ बस्तर की सेवा के लिए ही आई है मैं और मेरे जवानों रक्त अगर बस्तर के काम आये इससे बड़ी और क्या उपलब्धि हमारे लिए हो सकती है। डीआईजी डीएन लाल ने मीडिया और युवाओ को बढ़चढ़ कर रक्तदान शिविर में हिस्सा लेने के लिए बधाई भी दी।उन्होंने कहा कि मीडिया कवरेज के साथ मीडियाकर्मियों ने भी शिविर में हिस्सा लेकर रक्तदान किया यह बहुत बड़ा समाज के लिए सन्देश है। एक कहावत है जिस तरह से सैलून में बाल कटवाने के बाद स्वतः बाल वापस बढ़ जाते है। उसी तरह से आप ब्लड डोनेट कीजिये फिर से शरीर मे रक्त बन जायेगा। जब तक हमारी फोर्स दन्तेवाड़ा में है जब जब आवश्यकता लगेगी मैं और मेरे जवान रक्त देने के लिए हमेशा तैयार है। नकुलनार की मीडिया के साथ युवाओ के साथ कुआकोंडा टीआई जितेंद्र साहू भी पहुँचे हुए थे।
कार्यक्रम में डॉक्टर दीपेंद्र भदौरिया ने बताया कि दन्तेवाड़ा ब्लड बैंक में ४००-४०० यूनिट क्षमता के 2 फ्रिज है। पर पूरी क्षमता के रक्त नही रहते फिर भी हम 100 यूनिट हमेशा रखते है। खासकर 20 यूनिट ब्लड जवानों के लिए रिजर्व रहता है। क्योंकि अक्सर जवान बस्तर में नक्सलियों से मोर्चा लेने दौरान घायल होकर पहुँचते रहते है। समय समय पर इस तरह के आयोजन से जागरूकता भी आती है। मीडिया जागरूकता में अहम किरदार निभाती है।
नकुलनार से पहुँचे हुए युवाओ के लिए सीआरपीएफ 230 सी कम्पनी ने भोजन व्यवस्था भी कर रखी थी। सीआरपीएफ के द्वतीय कमान अधिकारी पी0पंडा, असिटेंट कमाडेंट पी0 नीलकंठ सिंह, जगनमोहन राव व रेंगानार एसी हरी नारायण मौजूद थे।