दन्तेवाड़ा@दन्तेवाड़ा जिले का सबसे पिछड़ा विकासखंड अब तक कटेकल्याण ब्लाक को माना जाता रहा है। इसका सबसे बड़ा कारण भी नक्सलवाद से घिरा यह विकासखंड मुख्यालय भी रहा है।लेकिन बीते 3 सालों में कटेकल्याण विकासखण्ड कटेकल्याण की जगह जनकल्याण विकास की तरफ बढ़ता नजर आ रहा है।स्वास्थ्य सेवाओं के मामलों में भी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कटेकल्याण में 24×7 की सेवाओं को देने के लिए डॉक्टर और स्टाफ की मौजूदगी भी पर्याप्त नजर आती है। शनिवार को जब मीडिया रिपोर्टर अस्पताल परिसर में पहुँचे हुए थे तब नज़ारा ही अलग था आरएमओ से लेकर बीएमओ बारा तक अंदुरुनी इलाको से आ रहे मरीजो के उपचार में थे। कटेकल्याण ब्लाक के चिकपाल,मारजुम, टेलम,टेटम जैसे सुदूर बीहड़ो से पहुँचे हुए मरीजो के लिए अस्पताल प्रबंधन में मरीजो के परिजन के ठहरने की व्यवस्था भी नजर आई।

◆ आयुष उपचार की शाखा भी चालू है

बीएमओ बारा ने जानकारी दी कि कटेकल्याण में होम्योपैथी चिकित्सक डॉक्टर भी अगस्त माह से नव पदस्थ हुए है। जिसके बाद से लगातार मरीज आयुष उपचार का लाभ लेने पहुँच रहे है। मगर जानकारी के लिए यह बता दे कि आयुष उपचार आयुर्वेद पध्दति का बेहतर उपचार मगर ट्राइबल इलाको में जागरूकता की कमी की वजह से लोग भरपूर इसका लाभ नही उठा पा रहे है।