जिले में 90 प्रतिशत पूर्ण टीकाकरण के उद्देश्य से मिशन इंद्रधनुष की तर्ज पर चार चरणों में टीकाकरण अभियान का आयोजन किया जाएगा। इसका पहला चरण 2 दिसंबर से शुरू होगा। द्वितीय चरण 6 जनवरी, तृतीय चरण 3 फरवरी और चतुर्थ चरण 2 मार्च में आयोजित किया जाएगा। अभियान के तहत प्रत्येक माह के प्रथम सप्ताह के सोमवार से प्रारंभ होकर नियमित टीकाकरण दिवस मंगलवार एवं शुक्रवार को छोड़कर सभी दिन तक चलेगा। विशेष टीकाकरण सप्ताह के आयोजन के संबंध में जिले के दूरस्थ क्षेत्रों के लिए विशेष रूप से मितानिन के सहयोग से घर-घर जाकर गर्भवती माताओं और 2 वर्ष तक वाले आयु समूह के ऐसे बच्चों का चिह्नांकित किया जाएगा। जिन्हें जन्म से लेकर अब तक कुछ टीके लगे हुए हैं,और निर्धारित आयु अनुसार उन्हें कुछ टीके नहीं लगे हैं,और ऐसे बच्चे जिन्हें जन्म से ही कोई टीका नहीं लगा है। ऐसे बच्चों का चिह्नांकन की जाएगी। वहीं बच्चे और गर्भवती महिलाएं विशेष टीकाकरण सप्ताह के लिए हितग्राही होंगे। सीएमएचओ डॉ. एस पी एस शांडिल्य ने पालकों को अपने बच्चों को टीका लगवाने की अपील की है।

टीकाकरण अधिकारी डॉ चंद्रा ने बताया की दंतेवाड़ा में 39 सब सेंटर में इसका आयोजन किया जायेगा। यहाँ 580 बच्चे टीकाकरण से छूटे हुए है। वही 373 बच्चे सर्वे में मिले है. इनके छूट जाने की स्थिति माइग्रेशन अथवा अन्य कारणों से उत्पन्न होती है। इससे बचने के लिए टीकाकरण कार्ड बनवाने के बाद अपनी सुविधानुसार कहीं से भी टीका लगवाया जा सकता है। मिशन इंद्रधनुष के तहत डिप्थीरिया, बलगम, टेटनस, पोलियो, खसरा, तपेदिक (क्षयरोग टीबी ), हेपिटाइटिस बी जैसे बीमारियों से बचाव हेतू टीका लगाया जाता है। अतएव नौनिहालों को इन गंभीर बीमारियों से बचाने के लिए सभी सहयोग करें और ज्यादा से ज्यादा इसका प्रचार प्रसार करें ताकि कोई बच्चा छूटे ना।