दन्तेवाड़ा का जिला अस्पताल किसी मल्टीफ्लैक्स बिल्डिंग की तरह चमचमाती दूर से आपको नजर आ जायेगी। मगर अस्पताल अपने दायित्वों का निर्वहन करने में बड़ी से बड़ी चूक करता दिखाई देता है। अस्पताल में मरीजो के ईलाज उपरांत बेकार दवाईयां,प्लास्टिक दस्ताने,प्लास्टिक सीरीज और तमाम तरह की यूज किये समान को अस्पताल के पीछे फेंके हुये है।बात यही नही रुकती आलीशान अस्पताल के संचालकों की इस चूक का खामयाजा मूकबधिर पशुओ को उठाना पड़ा है। जानवर इन्ही कबाड़ में प्लास्टिक खाते देखे गये। ध्यान देने वाली बात यह भी है कबाड़ दवाइयों,प्लास्टिक को पहले अस्पताल को नष्ट करना चाहिए उसके बाद दूर कचरे घर तक फिकवाना चाहिए। मगर तमाम तरह के तामझाम से बचते हुए सीधे अस्पताल के पीछे इस तरह से कचरा फेंककर स्वछता के सन्देश को पलीता लगाते हुए जानवरो को अकाल काल के गाल में धकेलने का इंतजाम जिला अस्पताल किये हुए नजर आ रहा है।

देखिये वीडियो