दंतेवाड़ा@ जिले में लगातार 03 दिनों से रुक रुककर बारिश जारी है.इसी बारिश के चलते दंतेवाड़ा चितालंका एसपीओ कैम्प के सामने एक घर की दीवार ढहने से 55 वर्षीय महिला मंगली वट्टी बुरी तरह घायल हो गयी जिसकी मौत इलाज शुरू होने से पहले ही दंतेवाड़ा जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में हो गयी.

दरअसल जिला पंचायत सदस्य रामू नेताम ने जानकारी दी कि घटना सुबह लगभग 07:30 बजे उस दौरान घटी जब महिला घरेलू कामकाज में व्यस्त थी. अचानक दीवार ढहने से महिला का शरीर दब गया था. जिसे जैसे तैसे परिजनों ने ऑटो के सहारे घायल अवस्था मे लेके जिला अस्पताल दंतेवाड़ा पहुँचे। जहाँ इमरजेंसी में डियूटी पर तैनात डॉक्टर सिर्फ घायल महिला और उनके परिजनों से पुलिसिया अंदाज़ में पूछताछ ही करते हुए आधे घण्टे बिता दिये। तबतक मंगली वट्टी की सांसें ही थम गई. परिजन अस्पताल में इलाज पर लेट लतीफी की बात कह रहे हैं। अगर समय से तत्काल डॉक्टर इलाज शुरू कर देता तो शायद महिला को बचाया जा सकता था।

जिला पंचायत सदस्य रामू नेताम ने कहा कि जिला अस्पताल में ईलाज की सुविधाएं ग्रामीणों को अव्यवस्थाओ के चलते नही मिल पा रही है। प्रशासन को अस्पताल पर ध्यान देना चाहिए. लाखो-करोड़ो रूपये सालाना स्वास्थ्य सेवा पर सरकार दंतेवाड़ा जैसे जिले में खर्च कर रही है. मगर अस्पताल में इलाज के नाम पर मरीज़ो के जीवन के साथ खिलवाड़ हो रहा है।