दन्तेवाड़ा@वन विभाग द्वारा हरा सोना मतलब तेंदु पत्ते की खरीदी शुरू हो गयी है। जिसके लिए आदिवासी ग्रामीण जंगलो में पत्तो को बीनने पहुँच रहे है। मगर इस बार सत्तासीन कांग्रेस गवर्नमेंट ने चरणपादुका योजना ही बन्द कर दी।

जिसका ख़ामियाजा बीहड़ो में बसे कुआकोंडा ब्लाक के गोगपाल गांव की आदिवासी महिला सोमरी को उस वक्त उठाना पड़ा जब सोमरी तेंदूपत्ता बीनने जंगलो में खुले पैर पहुँची थी। तभी जहरीले सर्प ने सोमरी को डस लिया। जहरीले सर्प के डसने से बिगड़ी हालात को देख सोमरी को जिला अस्पताल दन्तेवाड़ा लाया गया। जहाँ गंभीर हालत में सरिता का इलाज जारी है। सर्प के जहर से सरिता को आंखों से दिख नही रहा है जनप्रतिनिधी नंदलाल मुड़ामी सोमरी के हालातों का जायजा लेने अस्पताल पहुँचे साथ उन्होंने डॉक्टरों से मिलकर बेहतर उपचार कराने के प्रयास भी किये।

जानकारी के लिए आपको बता दे कि भूपेश बघेल सरकार ने चरण पादुका योजना बंद कर दी है। सरकार इस योजना में अब आदिवासियों को नगद राशि प्रदान करने की बात कहती है। वही पूर्ववर्ती रमन सरकार की इस महत्वकांक्षी योजना को भाजपा ने पहली बार सत्ता में आने के बाद तेंदु पत्ता संग्राहकों के लिए शुरू किया था। ताकि आदिवासी ग्रामीण क्षेत्रो में जंगलो में तेंदुपत्ता बीनने के वक्त संग्राहकों के पैर सुरक्षित रहे