बीजापुर :- बीजापुर के भोपालपटनम ब्लाॅक में नेशनल हाईवे क्रमांक 202 पर बसे देपला गांव से अटूकपल्ली गांव तक पी एम जी एस वाय द्वारा 9 किलोमीटर लंबी सडक का निर्माण कार्य करवाया जा रहा है। इस सडक के निर्माण में तय मानकों और मापदण्डों को ठेंगा दिखाते हुए निर्माण कार्य करवाया जा रहा है। बडे कमीषनखोरी के फिराक में ठेकेदार को फायदा पहुंचाने के उद्देष्य से विभाग द्वारा स्तरहीन निर्माण कार्य को अंजाम दिया जा रहा है। तय मापदण्ड के मुताबिक सडक की चैडाई साढे सात मीटर होनी थी मगर अपनी तिजोरी भरने के उद्देष्य से इस सडक की चैडाई को कई जगह 4 से 5 मीटर में ही सिमटा दिया गया है। ग्रामीणों ने बताया कि सडक निर्माण के दौरान कभी भी रोड रोलर नहीं चलाया गया। जिस कारण बारिष के दिनों में सडक के बह जाने की संभावना बनी हुई है। वहीं कई जगह पर मिटटी के साथ पेड के जड बिछाये गये हैं। इतना ही नहीं बल्कि सडक निर्माण के नाम पर बडे-बडे बोल्डर बिछा दिये गये हैं। 1 से 2 फीट के बोल्डर सडक पे फेंक दिये गये हैं। जो राहगीरों के लिए मुसीबत का सबब बने हुए हैं।
रामपेटा गांव के ग्रामीणों ने बताया कि सडक निर्माण कार्य शुरू होने से उन्हें काफी खुषी हुई थी। मगर अब गुणवत्ताहीन निर्माण कार्य को देखकर वे काफी उदास और विभाग से नाराज हैं। ग्रामीण बताते हैं कि सडक निर्माण के दौरान आज तक कभी भी रोड रोलर नहीं चलाया गया है। जबकि सडक में जब तक कंपेक्षन नहीं आ जाता तब तक रोड रोलर चलाया जाता है। बरसाती नदी नालों में पक्के पुल पुलियों का निर्माण किया जाना था। मगर ह्यूम पाईप लगाकर खानापूर्ति की गई है। बारिश के दिनों में नदी नालों के तेज बहाव में सडक के साथ ही ह्यूम पाईप भी बहने की संभावना है। अटूकपल्ली गांव की सरपंच विनोदा कोमरम ने बताया कि सडक निर्माण में बरती जा रही लापरवाही और निर्माण के नाम पर हो रहे भ्रष्टाचार की षिकायत जल्द ही जिले के कलेक्टर और विधायक विक्रम शाह मंडावी से करेंगे।
करीब 4 करोड की लागत से निर्माणाधीन इस घटिया सडक पर विभाग ने रायगढ के गुप्ता कंस्ट्रक्षन कंपनी को डेढ करोड का भुगतान भी कर डाला। इधर भाजपा जिलाध्यक्ष का आरोप है कि प्रदेष में सत्ता परिवर्तन के बाद जिले में विकास कार्यों के नाम पर बडे भ्रष्टाचार को अंजाम दिया जा रहा है। भाजपा जिलाध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार ने कहा है कि जल्द ही वे एक जांच समिति बनाकर भाजपा प्रतिनिधिमंडल के साथ सडक की जांच करने पहुंचेंगे। और सडक निर्माण के नाम पर की जा रही कमीषनखोरी की शिकायत कलेक्टर से करेंगे साथ ही प्रशासन पर विभाग और कंस्ट्रक्शन कंपनी पर कार्रवाई की मांग भी करेंगे। स्तरहीन सडक निर्माण कार्य में अपना और अधीनस्थ कर्मचारियों का बचाव करते हुए पी एम जी एस वाय के एग्जीक्यूटीव इंजीनियर एस.के. साहू बताते हैं कि सडक अभी निर्माणाधीन है। किसी भी तरह की कोई कमी है तो उसे दूरू कर लिया जायेगा।