दन्तेवाड़ा- बैलाडीला लौह अयस्क में 13 नम्बर डिपाजिट पर ग्रामीणों के लम्बे विरोध के बाद दन्तेवाड़ा प्रशासन ने 2014 में हुई ग्रामसभा की जांच 5 बिंदुओं में राज्य सरकार सौंपी है। जिस पर ग्रामसभा पंचायतो के नियमो के विरुद्ध कर फर्जी तरीके से करने की बात लिखी है।


4 जुलाई 2014 हिरोली ग्रामसभा फर्जी तरीके से की गई।

प्रशासनिक जांच में कोई भी ग्राम सभा नही होने की बात आई सामने।

कलेक्टर ने रिपोर्ट पर ग्रामसभा से जुड़ी सभी कार्यवाही को शून्य करने की अनुशंसा भी है।

ग्राम सभा मे 10 मिलियन टन वार्षिक क्षमता के लिए बैलाडीला लौह भंडार 13 नम्बर खनन क्षेत्र की मंजूरी के लिए ग्रामसभा थी।

रिपोर्ट पर एक-तिहाई ग्रामीणों का नही होना, ग्राम सभा का कोरम पूरा करने के लिए डबल-डबल अंगूठे के निशान।

2014 के अनुबंध में 13 नम्बर डिपाजिट खदान NmDC छतीसगढ़ खनिज विकास निगम से NCL को दिया गया था।

देखिये राज्य सरकार ने अपना पक्ष रखने का जो पत्र दिया