दंतेवाड़ा:- जिला पंचायत अध्यक्ष तूलिका कर्मा के मजदूरों के पलायन को लेकर सरपंच, सचिव व रोजगार सहायक पर कार्यवाही करने के बयान पर जिले की राजनीति अब तेज़ हो गयी है. सरपंच संघ के जिलाध्यक्ष कोपा कुंजाम ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर तूलिका कर्मा के जारी ब्यान पर सरपंच संघ से माफ़ी मांगने की बात लिखते हुये माफी नही मांगने की शर्त पर धरने की चेतावनी दी है।

सरपंच संघ ने जारी प्रेसनोट में लिखा है कि सैकड़ो पंचायतों में पूर्व में कराये गये निर्माण कार्य के भुगतान अब तक नही हुये है. जिसके चलते मजदूर स्थानीय स्तर पर कार्य करने के लिये तैयार नही है. सरपंच सचिवो पर मजदूरों के भुगतान को लेकर भी दबाव है। आये दिन मजदूर घेराव भी करते है। साथ ही मनरेगा के मजदूरों का भुगतान भी नही होता है। बैंको के चक्कर काटते काटते मजदूर थक जाते है और उन्हें समय पर मेहनताना नही मिल पाता है, कभी नेट फैल कभी एंट्री मशीन खराब जैसी कितनी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इन सबकी शिकायत दंतेवाड़ा कलेक्टर से पूर्व में भी की गई है। इन सब परेशानियों के बाद सरपंच और सचिव को पलायन का जिम्मेदार मानना सरासर गलत है. जिला पंचायत अध्यक्ष को चाहिए कि पहले व्यवस्था सुधरवाये पुराने कार्यो का भुगतान करवाये. उसके बाद ही सरपंच सचिव से बात करे। प्रशासनिक तंत्र का इस्तेमाल कर दबाव बनाना गलत है।