दंतेवाड़ा@राष्ट्रीय स्वयंसेवक सघ द्वारा मनाये जाने वाले 6 उत्सवों में से एक महत्वपूर्ण हिन्दू साम्राज्य दिवस जो कि शिवाजी महाराज के तिथि अनुसार जयेष्ठ शुक्ल त्रयोदशी में मनाया जाता है। इसी उत्सव में कुआकोंडा खण्ड के नकुलनार में स्वयं सेवकों द्वारा शिशु मंदिर में एक बौद्धिक कार्यशाला आयोजित कि गयी।

स्वयंसेवको कि बैठक

इस अवसर पर कुआकोंडा खण्ड के आसपास के 30 से अधिक स्वयं सेवक कार्यक्रम में उपस्थित थे। जिन्हें भारत के वीर सपूत शिवाजी महाराज, महाराणा प्रताप, जैसे कर्मयोगियों की जीवनी और जीवनशैली के विचारों का हस्तांतरण उपस्थित स्वयंसेवको में किया गया। इस विशेष तिथी का महत्व इसलिए अधिक क्योकि वीर शिवाजी महाराज ने मुगलों को परास्त कर हिंदू साम्राज्य स्थापित किया था। जहाँ उनका राज्याभिषेक भी हुआ था. इतिहास में महापुरुषों की सनातन धर्म संस्कृति की रक्षा में इन्ही योगदान को याद कर, वर्तमान भारत के परिदृश्य में धर्म संस्कृति की रक्षा के लिए किस तरह से एकजुट होना है इस पर चर्चा की गई। इस अवसर पर बौद्धिक श्री ऋषिकेश पांडे ने सभी स्वयं सेवकों को ज्ञानवर्धक महापुरुषों पर जानकारी दी। मिष्ठान का वितरण कर कार्यक्रम की समाप्ति की गई।