दंतेवाड़ा- मनरेगा योजना (महात्मा गांधी रोजगार गारंटी) सबसे महत्वपूर्ण योजना शासन और प्रशासन क्षेत्र विकास के लिए बताता है। मगर दंतेवाड़ा जिले के कोरीरास ग्राम पंचायत में रोजगार सहायक द्वारा मजदूरों की जगह मशीने लगाकर 02 तालाब और डबरी बनवाई जा रही है। जेसीबी मशीन खुदाई करते ग्राउंड में नजर आई।

रोजगार सहायक मशीने चलवाता

दरअसल अंदुरुनी इलाको में विभागीय अधिकारियों का दौरा बहुत कम होता है। इसी बात का फायदा उठाकर मनरेगा निर्माण कार्यो में भ्रष्टाचार की चादर चढ़ाकर सरकारी खजाने में पंचायते सेंधमारी करती अक्सर नज़र आती है। रोजगार सहायक संतोष कुमार स्वयं खड़े हो जेसीबी मशीन चलवा रहे थे। इतना ही नही हड़मामुंडा के नजदीक एक तालाब को तो पुराने बने हुए तालाब की जगह पर ही खुदाई दिखाकर नया बनाने में लगे हुए।

मनरेगा में ऑनलाइन पेमेंट पद्दति सरकार लेबरों को सीधे फायदा पहुँचाने के लिए दे रखी है, फिर भी रोजगार सहायक डाकघरों से सीधी सेटिंग करके आसानी से एक मुश्त रकम निकालकर बंदरबांट करने में सफल हो रहे है। तालाब और डबरी जैसे निर्माण कार्यो में 100% मजदूरी ग्रामीणों को मिलती मगर मशीने लगाकर मजदूरों का पसीना पंचायत डकार रही है।

गहीर जनपद सीओ
पूर्ण काम मजदूरों से करवाना है, मशीने लगाकर काम कर रहे है तो कार्यवाही होगी।