दंतेवाड़ा@ श्रमजीवी पत्रकार संघ दंतेवाड़ा ने हाल हि में नक्सलियों के दक्षिणसब जोनल कमेटी के जारी पर्चे में बीजापुर के पत्रकार गणेश मिश्रा और लीलाधर राठी के नाम से धमकी भरे अंदाज़ का जबाब देने 16 फरवरी को मलंगीर एरिया के दुर्दांत जंगलो में बाइक रैली निकालकर विरोध दर्ज करवाने पहुँचेगे।

इस संबंध में संघ की तरफ से बचेली नगर में आपात बैठक बुलाई गई। जहाँ संघ में महा सचिव जितेंद्र चौधरी, अध्यक्ष आज़ाद सक्सेना, जिला उपाध्यक्ष पंकज भदौरिया, प्रदीप गौतम की मौजूदगी में सर्व सम्मति से पत्रकार साथियों में बिना साक्ष्यों के आरोप लगाने पर नक्सलियों की निंदा की गयी।

इस दौरान संघ के अध्यक्ष आज़ाद सक्सेना ने कहा कि बस्तर के पत्रकार जटिल भूगौलिक परिस्थियों के बीच रहकर जनसरोकार से जुड़कर पत्रकारिता करते हैं। ऐसे में नक्सलियों का गणेश मिश्र और लीलाधर राठी जैसे लम्बे समय से पत्रकारिता से जुड़े पत्रकारों को टारगेट करना निंदनीय है। इसका जबरदस्त विरोध नक्सलियों के गढ़ से होगा। उन्हें हमारे सवालों का जबाब देना होगा। बुरगुम इलाक़े हम मावोवादियो तक अपनी आवाज पहुँचाकर ही दम लेंगे।

बता दे आपको कि बस्तर के अधिकांश पत्रकार बीजापुर-सुकमा-दंतेवाड़ा या फिर नारायनपुर हो सभी खतरों के बीच अक्सर खबरों के लिये संघर्ष कर जन आवाज़ बनते हैं। और जब पत्रकारिता से जुड़े किसी ऐसे पत्रकार को आरोपो के घेरे में लाल फीताशाही की लकीरों से रोकने की कोशिश की जाती हैं तो आवाज बुलंद करना पड़ता है।

श्रमजीवी पत्रकार संघ के पत्रकार तय रूट पर नक्सलियों के जारी प्रेसनोट पर पत्रकारिता को कटघरे में खड़े करने के खिलाफ पत्रकार जंगलो में धरना देंगे। इस दौरान पोस्टर भी पेड़ो में पत्रकार टांगकर अपना विरोध दर्ज करवायेगे। बचेली पत्रकारों की बैठक में दंतेवाड़ा से वरिष्ठ पत्रकार सन्तोष चौहान, राजेन्द्र सक्सेना, नफ़ीस खान, संजुदास, अनिल भदौरिया, आरके बैरागी,अमलेंदु चक्रवती,डीएम सोनी के अलावा कई प्रेस रिपोटर इस गंभीर विषय मे परिचर्चा के लिये एकजुट हुये थे।