दन्तेवाड़ा- अंतराष्ट्रीय महिला दिवस पर दन्तेवाड़ा जिला प्रशासन समेली गांव पर सामुदायिक पुलसिंग कार्यक्रम चलाकर गरीब ग्रामीण महिलाओ को रोजमर्रा के सामान बांटने पहुँचा था। कार्यक्रम में समेली क्षेत्र की बदलती तस्वीर दिखी, नक्सलगढ़ के इलाके में पहले प्रशासन के कार्यक्रमो में भीड़ उमड़ी हुई आपा-थापी ऐसी मची की ग्रामीणों की भीड़ प्रशासन कंट्रोल करने में विफल नज़र आई।

देखिये इस लिंक पर वीडियो-

सामान बाटने के वक्त नज़ारा ऐसा था कि दन्तेवाड़ा एसपी और सीआरपीएफ डीआईजी डीएन लाल को ग्रामीणों को सामान फेंक फेंककर बाटने पड़ गये। कपड़े, चप्पलें सभी ग्रामीण महिलाओ की तरफ फेंकी जा रही थी. जिसे महिलाएं आपस मे धक्का मुक्की कर एक दुसरे से छीना झपटी करती नजर आ रही है। आज भी समेली जैसे ग्रामो में स्वरोज़गार के पूरे दावेदारी प्रशासन की बौनी हो जाती है। और गरीबी की रेखा इस महिला दिवस के कार्यक्रम की तरह दिखने लगती है. आवश्यकताओं की पूर्ति के गरीब महिला जब अंतराष्ट्रीय महिला सम्मान दिवस पर इस अंदाज में सामान लेती नजर आई।