दन्तेवाड़ा@ दन्तेवाड़ा जिले के कुआकोंडा ब्लाक के अंदरूनी इलाके पोटाली में हजारों ग्रामीण पोटाली में लगने वाले नवीन कैम्प की भनक से सड़क पर उतरकर विरोध करते नजर आये।

शुक्रवार को पोटाली नीलवाया दोनों ग्राम पंचायतो के ग्रामीण पोटाली से नीलवाया तक विरोध जताया बड़े-बड़े बैनरों को लेकर ग्रामीण बैनरों में नवीन कैम्प पोटाली का विरोध करते हुए, पुलिस प्रशासन द्वारा ग्रामीणों को जबरन नक्सलियों के नाम पर पकड़ना, जेल में बंद करना इस पर न्यायिक जांच की मांग उठा रहे थे। ग्रामीणों की ये रैली पोटाली चूलेपारा से नीलवाया होते हुये जंगलो के रास्ते से निकली थी।लगभग 3 किलोमीटर तक निकली।

वीडियो देखिये:-

नीलवाया गाँव के पास विरोध

साथ ही कुछ बैनरों में फूलपाड़ और पोटाली जैसे ग्रामो में आदिवासीयो की जमीन के पट्टे देने के नाम पर जबरन उन्ही की जमीन से बेदखल करने वालो का विरोध करते हुए न्यालय के फैसले को भी गलत बताया। इन बैनरों में जन संघर्ष समिति भी लिखा हुआ नजर आया। ग्रामीणों हिड़मा ने बताया कि पोटाली की 190 एकड़ जमीन 7 ग्रामीणों की सूरजपुर के अग्रवाल ने धोखे से रजिस्ट्री करा ली। मात्र 35 हजार रुपये में आदिवासीयो को इसी तरह से ठगा जा रहा है। साथ ही जयराम नामक ग्रामीण ने जानकारी दी कि कैम्प बैठने से डीआरजी के जवान तैनात किए जायेगे डीआरजी के जवान गांवो में गश्त कर लूटपाट फर्जी मुठभेड़ में माहिर है। वे अक्सर गांवो में ऐसे ही काम करते है इसलिए कैम्प नही चाहिए।

2 पंचायतो के हजार ग्रामीणों का विरोध

रैली में जमकर ग्रामीण डीआरजी जवानों के गश्त पर आरोप लगाते हुए जबरन गांवो में मारपीट के आरोप लगा रहे थे।रैली में सबसे अधिक भीड़ पोटाली गांव की थी जहाँ मिर्चीपारा, रेंगामपारा, किकरीपारा, मेटापारा, धुर्वापारा, केशापारा, चुलेपारा, राउतपारा, कुंजामपारा, हूरपाल पारा, बंडीपारा जैसे ग्रामीण पहुँचे हुये थे।

मांग-१

अभिषेक पल्लव दन्तेवाड़ा एसपी:- इस रैली के विरोध पर दन्तेवाड़ा एसपी ने कहा कि जब कैम्प लगना होगा तब सुरक्षा की दृष्टिकोण से हम लगा देंगे। सबका संवैधानिक अधिकार है विरोध का ग्रामीणों को अगर कैम्प से दिक्कत है तो कलेक्टर के पास जाये या फिर माननीय न्यायालय की तरफ जाये।