निगरानी एवं सुरक्षा समिति नेसर्व सम्मति से तुलिका कर्मा को समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया

बढ़ते अपराध एवं धर्मातरण के विरोध में सोमवार को एक दिवसीय बंद का लिया फैसला

दंतेवाड़ा@ दक्षिण बस्तर की शांत फिजा में जहर घोलने बाहर प्रदेशों से व्यवसाय करने के नाम पर आए हुए कुछ लोगों, असामाजिक तत्वों एवं बस्तर अंचल में तेजी से हो रहे धर्मातरण पर चिंता जताते सर्व बस्तरिया समाज के बैनर तले शनिवार को माईजी की बगिया में बैठक आहूत की गई। बैठक में कई गंभीर विषयों पर चर्चा उपरांत अपराध पर अंकुश लगाने एवं अन्य प्रदेशों से आने वाले बाहरी तत्वों को रोकने के लिए निगरानी एवं सुरक्षा समिति का गठन किया गया। जिसमें सर्व सम्मति से तुलिका कर्मा को समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया गया।

निगरानी एवं सुरक्षा समिति ने आगामी सोमवार को एक दिवसीय दक्षिण बस्तर दंतेवाड़ा जिला बंद की घोषणा की, जिसका सभी सदस्यों ने सर्व सम्मति से समर्थन किया।
गौरतलब है कि पिछले कुछ महिनों में दंतेवाड़ा, गीदम समेत जिले के अन्य नगर एवं कस्बों में तेजी से अपराध में बढ़ोत्तरी हुई है। हाल ही में व्यवसायिक नगरी गीदम में चोरी, लूटपाट, तस्करी, भूमि-अतिक्रमण, धर्मातरण जैसी कई घटनाएं आयी हैं। जिले में असामाजिक तवों का जमावाड़ा तेजी से बढ़ता जा रहा है। बाहर प्रदेशों से सैकड़ों की तादात में असामाजिक तव व्यापार एवं अन्य व्यवसाय की आड़ में घुसपैठ कर रहे हैं। जिनकी कोई पहचान पुलिस थानों में नहीं होती। बाहरी लोग आसानी से शहर में अपनी असली पहचान छुपाकर किराये का मकान लेकर रहते हैं और चोरी लूटपाट जैसी घटनाओं को अंजाम देकर फरार हो जाते हैं। ये बाहरी तत्व कुछ दिन शहर में रहकर व्यवसाय करते हैं और मौका देखते ही चोरी एवं लूट की घटना को अंजाम देकर फरार हो जाते हैं। अब तो युवतियों को प्रेमजाल में फंसाकर इनका दैहिक शोषण कर धर्मांतरण के प्रयास जैसी घटनाएं भी सामने आने लगी हैं। शहर में बढ़ते अपराध पर चिंता जाहिर करते सर्व बस्तरिया समाज ने शनिवार को मां दंतेश्वरी की पावन धरा माईजी की बगिया में बैठक आहूत की जिसमें सभी समाज के प्रबुद्धजन, गणमान्य नागरिक, युवा, पत्रकार, व्यवसायी, विभिन्न संगठनों के सदस्य, जनप्रतिनिधि स्वस्फूर्त शामिल हुए। बैठक में सर्व समाज के लोगों ने अपनी अपनी राय रखी। लंबी चर्चा परिचर्चा उपरांत यह निर्णय लिया गया कि बाहर से आने वाले घुमन्तु व्यवसायी एवं ठेला खोमचा लगाने वाले, फेरी वाले एवं अन्य व्यवसाय करने वाले लोगों को चिन्हित कर उनका नाम एवं उनका पूरा बायोडाटा पुलिस को दिया जाएगा।

बता दें कि जब भी कोई व्यक्ति किसी बाहर प्रदेश या जिले से किसी शहर में कुछ समय के लिए कारोबार या व्यवसाय की मंशा से आता है तो कानूनी रूप से उस व्यक्ति का मुसाफिरी के तहत थाने में जानकारी दर्ज किया जाना होता है, लेकिन दंतेवाड़ा में इसका पालन नहीं किया जा रहा। जिसके चलते शहर में बाहरी लोगों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। ऐसे तत्वों से कैसे निपटा जाए इसको लेकर सर्व समाज के सदस्यों ने घंटों मंथन किया, जिसके उपरांत यह निर्णय लिया गया कि बढ़ते अपराध एवं धर्मांतरण के विरोध में सोमवार को दंतेवाड़ा जिला बंद बुलाकर पुलिस अधीक्षक एवं कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर बाहरी तत्वों, अपराध एवं धर्मांतरण करवाने वालों पर पूरी तरह नियंत्रण लगाने की मांग समिति द्वारा की जाएगी।