दंतेवाड़ा@ग्राम पंचायत सचिव एवं रोजगार सहायक संघ अपनी जायज मांगों को लेकर कई दिनों से धरने पर बैठे हैं। पूर्व सांसद दिनेश कश्यप एवं बस्तर जिला पंचायत अध्यक्ष बेदवती कश्यप सपरिवार दन्तेवाड़ा प्रवास पर आये हुए थे। दुर्गा मंडप के समक्ष धरना में बैठे हड़ताली कर्मचारियों को देख वे भाजपा जिलाध्यक्ष चैतराम अटामी और भाजपा नेताओं के साथ उनसे मिलने पहुंचे। पूर्व सांसद दिनेश कश्यप ने धरना स्थल से राज्य की भूपेश सरकार को संदेश देते हुए कहा कि झूठ के बुनियाद पर बनी राज्य सरकार ज्यादा दिन की नही रह गई है। उन्होंने कहा कि राज्य की कांग्रेस सरकार गंगाजल हाथ मे लेकर कसम खाकर न जाने कितनों को ठगा है, उसका हिसाब चुकाने का समय भी आ रहा है। कांग्रेस एक ओर अपने पंचायत मंत्री से पंचायती राज का महत्व बताने सभाएं आयोजित करवा रही है वहीं दूसरी ओर पंचायत के कर्मचारियों का ही शोषण कर रही है। कोरोना महामारी के दौरान राज्य सरकार ने किस तरह से बिना सुरक्षा प्रबंध के सचिवों और रोजगार सहायकों की जान जोखिम में डाला था ये बात किसी से छुपी नही है। सुरक्षा इंतजामात के अभाव के बावजूद सचिवों ने अपनी जान दाव पर लगाकर शासन के आदेशों का ईमानदारी से पालन किया। इस पर भी कांग्रेस चुनाव पूर्व सत्ता लोभ में ग्राम सचिवों और रोजगार सहायकों से किया गया वादा भूल गई। चुनाव पूर्व सत्ता लोभ में कांग्रेस सरकार ने सभी अनियमित कर्मचारियों को नियमित करने का वादा किया था। उन्होंने कहा कि सत्ता में आते ही अपने किये गए वादों, घोषणा पत्र में उल्लेखित सभी मुद्दों को कांग्रेस भूल गई है। पूर्व सांसद दिनेश कश्यप ने ग्राम सचिवों और रोजगार सहायकों के मांगों को जायज बताया एवं उनके साथ मिलकर भूपेश सरकार वादा निभाओ का नारा लगाया। इस दौरान उनके साथ जिलाध्यक्ष चैतराम अटामी, दुर्गा सिंह चौहान, धीरेंद्र प्रताप सिंह, मुकेश शर्मा, रामु नेताम, मालती नंदलाल मुड़ामी, कुलदीप ठाकुर,श्रवण कड़ती, नन्दलाल मुड़ामी, कुणाल ठाकुर सहित भजपा नेता शामिल थे।