दंतेवाड़ा@ कोरोनाकाल के चलते इंसानी जीवन पटरी से बेपटरी देशभर में नजऱ आ रहा है, हमारे कोरोना वारियर्स डॉक्टर,नर्स,पोलिस लोगो की जिंदगी बचाने में अस्पतालों से लेकर सड़को तक रात-दिन लगे हैं। मगर आपने ऐसे कोरोना वारियर्स को अबतक नही देखा होगा, जो पीपीई कीट पहनकर कोरोना संक्रमित व्यक्ति और उसके परिजनों को जहरीले रसल वाइपर जैसे खतरनाक सांप से बचाने के लिए आधी रात रेस्क्यू ऑपरेशन कर रहे हो देखिये रेस्कयू वीडियो,

THE AWARE पर ये खबर आपको यदि पसंद आई है तो चैनल को लाइक 👍 और बेल आइकन दबाकर 🔔सब्सक्राइब कर हमसे जुड़े।

जी हाँ बिलकुल दंतेवाड़ा के पुराना मार्केट बचेली के वार्ड नम्बर में ऐसा ही नज़ारा दिखा जहाँ अमित मिश्रा ने आधी रात को कोरोना संक्रमित के घर निकले सबसे जहरीले रसल वाइपर सांप का रेस्क्यू पीपीई कीट पहनकर 20 मिंट तक संक्रमित व्यक्ति के घर मे रहकर सफल तरीके से किया।

अमित मिश्रा बचेली में रहकर सांप रेस्क्यू का भी काम किया करते हैं। अमित ने जानकारी दी कि सबसे बड़ी दिक्कत ये थी कि पीपीआई कीट पहनकर इस जहरीले सांप को पकड़ना था। एसडीएम प्रकाश भारद्वाज ने उन्हें बचेली एनएमडीसी अस्पताल से पीपीई कीट दिलवाने में मदद की। अमित ने कहा जीवन मे पहली बार पीपीई कीट पहनकर इस रेस्क्यू सफल रेस्क्यू ऑपरेशन को तो किया पर दिक्कते बहुत सी आई। उन्होंने उन डॉक्टरों को सलाम किया जो पीपीई कीट पहनकर दिनभर कोरोना संक्रमित मरीजो के जीवन को बचाने में संघर्षरत है।

जानकारी के लिए बता दे कि रसल वाइपर बहुत ही जहरीला सांप है, इसके दंश लगने से हिमोटोक्सीन और साईटोटोक्सीन नामक जहर निकलता है, जिससे रक्त में थक्के पड़ने लगते हैं और शरीर गलना शुरू हो जाता है रसल वाइपर का दंश लगने के 45 मिंट के अंदर ही आदमी की मौत हो जाती है।

दंतेवाड़ा जिले में इस वक्त अक्षय मिश्रा,दीपक ठाकुर दंतेवाड़ा क्षेत्र में वही अमित मिश्रा बचेली और मनोज कुमार किरन्दुल इलाके में स्नेक कैचर बनकर लोगो की निस्वार्थ मदद कर रहे है। इनके कार्य क्षेत्रभर में प्रशंसीय है