दंतेवाड़ा- कृषि कानून 2020 को भाजपा मील का पत्थर बताते हुये उसे किसान हित मे आज़ादी के बाद से अबतक सबसे अधिक किसानों के लिये फायदे का बिल बताया है। दंतेवाड़ा भाजपा कार्यलय में पत्रकारवार्ता आयोजित करने भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष लता उसेंडी ने पत्रकारों को संबोधित करते हुऐ कहा कि किसान बिल को देश मे कुछ विरोधियों के द्वारा गलत बताकर केंद्र सरकार के खिलाफ के एक वातावरण निर्मित करने की कोशिश की जा रही है। मगर किसानो का समर्थन उन विरोधियों को सभी जगह नही मिल रहा है। देश मे पंजाब के किसान इस कानून का विरोध 22 दिनों से लगातार कर रही है। जबकि इस कानून को पंजाब सरकार ने अपने प्रदेश में लागू ही नही किया है। तो फिर विरोध कैसा? इस बिल का महत्त्व किसानों को भी हितकारी लग रहा है। मंडी टैक्स, और भारी कर के भार से किसान इस बिल के लागू होने से मुक्त हो गया है। साथ ही एमएसपी तय करने से किसानों को ही लाभ पहुँचेगा। मोदी सरकार ने किसानों के हितों के लिए ही इस किसान बिल को लाया है। आने वाले वर्षों में किसान की आय भी दुगनी हो जाएगी।

प्रेसवार्ता

◆ आगे उन्होंने राज्य सरकार की 2 सालो की उपलब्धि गिनाने पर कहा कि छग सरकार के पास कुछ भी जनता के लिए बताने को नही है। धान खरीदी में अव्यवस्था, किसानों को टोकन नही,धान उठाव नही, धान केंद्रों में किसान इन्ही अव्यवस्थाओं की वजह से या तो दम तोड़ दे रहा या आत्महत्या कर रहा है। राजनांदगांव और कोंडागांव का उन्होंने उदाहरण भी दिया।

गंगाजल हाथ मे उठाकर कसम खाने वाली कांग्रेस छग में जनता से किये वादे भूल गयी है। 2 सालो में जो भी योजना बनाई गई वे सभी रेंग रही है। गाय गोठान,कृषि,स्वास्थ्य, आवास जहाँ भी आप नजर डालने आपको कांग्रेस के अव्यवस्था और अराजकता का माहौल दिख जायेगा। उक्त प्रेस कांफ्रेंस में भाजपा दंतेवाड़ा जिला अध्यक्ष चैतराम अटामी, कमला विनयनाग,ओजस्वी मंडावी, रामबाबू सिंह गौतम, नवीन विश्वकर्मा भी मौजूद रहे।