दंतेवाड़ा/बचेली-डीएम सोनी@जिसका कोई वारिस नही होता वह लावारिस कहलाता है। और लावारिस को जो सहारा दे वही मानवता कहलाती है। कोरोना संकटकाल में जब अपने के खो जाने में अपने अंतिम शवयात्रा में शामिल तक नही हो पाते, ऐसे में लावारिस की अंतिम शवयात्रा जवानों और जनप्रतिनिधियों के कंधे में निकल जाये। तो इससे बड़ा एकता का उदाहरण कुछ नही हो सकता। दरअसल बचेली नगर मे थाना प्रभारी मनीष नागर,स्थानीय वार्ड पार्षद अप्पू कुंजाम एवं जनप्रतिनिधियों,स्थानीय वार्ड वासियो ने मिलकर लावारिस महिला बीना बघेल का अंतिम संस्कार किया। महिला का कल रात लेबर हार्ट स्कूल में अकस्मात निधन हो गया था जिसके बाद वार्ड वार्ड पार्षद ने इसकी सूचना थाना प्रभारी मनीष नागर को दी थाना प्रभारी द्वारा लावारिस महिला के अंतिम संस्कार में सहयोग का आश्वाशन दिया गया जिसके बाद आज सुबह से पार्षद एवं वार्ड के युवाओं द्वारा इसकी तैयारी करके मृत महिला का अंतिम संस्कार किया गया। मृतिका बीना बघेल ने जीते जी ये कभी भी नही सोचा होगा की मृत्यु उपरांत उसकी शवयात्रा इतने लोगो द्वारा निकाली जाएगी।
मृतिका की अर्थी को स्वयं थाना प्रभारी मनीष नागर ने कांधा देकर मुक्ति स्थान तक पहुंचाया इस शवयात्रा में अध्यक्ष पूजा साव,संजीव साव वार्ड पार्षद अप्पू कुंजाम एवं वार्ड वासियो की उपस्थिति रही। पार्षद अप्पू कुंजाम के मुताबिक महिला बीना बघेल डिमरापाल की निवासी थी जो 6 वर्ष पहले बचेली आयी एवं यही के स्थानीय पुरुष गंगू बघेल के साथ रहने लगी। 3 माह पूर्व बीमारी से गंगू बघेल की मृत्यु हो गयी जिसके बाद महिला अज्ञात कारणों से घर पर ना रहकर लेबरहार्ट स्कूल में रहने लगी। महिला के खाने पीने का प्रबंध वार्ड पार्षद के अलावा स्थानीय युवाओ द्वारा किया जाता था। लॉक डाउन के दौरान महिला की तबियत बिगड़ने लगी जिसके बाद उसने खाना पीना तक छोड़ दिया पार्षद द्वारा महिला को अपोलो अस्पताल में भर्ती करवाया गया जिसके बाद वो कुछ हद तक स्वस्थ हो चुकी थी। पार्षद एवं स्थानीय युवाओ ने उसके गृहग्राम डिमरापाल लेकर जाने का मन बनाया परंतु लॉक डाउन की वजह से ये सम्भव ना हो सका। पिछले कुछ दिनों में महिला की हालत बिगड़ने लगी एवं कल रात्रि महिला ने दम तोड़ दिया। लावारिस महिला की शव यात्रा में सबसे ज्यादा लोगो को प्रभावित करने वाली बात यह रही की थाना प्रभारी मनीष नागर ने आर्थिक सहयोग के साथ महिला की अर्थी को कांधा देकर मुक्ति स्थान तक पहुंचाया लोगो के मुताबिक पुलिस का ये मानवीय चेहरा पहली बार बचेली में देखने को मिला है।